Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 Correct
 Wrong
 Stamp
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  

Purulia Express: লালপাহাড়ীর দ‍্যাশে যাবি? চিন্তা কিসের লো? বিকাল বেলা হাওড়া থেকে পুরুল্যা এক্সপেরেস পাবি। - Dip

Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed Jul 24 01:44:30 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips/Spottings
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    365345 news entries  next>>
  
‘नोकरदारांची गाडी’ म्हणून परिचित असलेली ही रेल्वेगाडी गेले सहा महिने अवेळी धावत असून, कधी बारा डब्यांची, तर कधी आठ व दहा डब्यांची येत असल्याने या गाडीस प्रचंड गर्दी होत आहे.
ठळक मुद्दे जयसिंगपूर, रुकडी येथे पडसाद
जयसिंगपूर / रुकडी : जयसिंगपूर आणि रुकडी येथे मंगळवारी सकाळी प्रवाशांनी रेल्वे रोखली. लोकल रेल्वेला डबे कमी असल्यामुळे प्रवाशांची गैरसोय होत आहे. जवळपास पन्नास टक्के प्रवाशांना नव्या लोकल रेल्वेचा नाहक त्रास सहन करावा लागत आहे. रेल्वे प्रशासनाकडे मागणी करुनही जादा डबे जोडले जात नसल्यामुळे प्रवाशांचा हा उद्रेक पाहायला मिळाला.सातारा-कोल्हापूर (पॅसेंजर नं. ५१४४१) ही रेल्वे गाडी
...
more...
रुकडी येथे मंगळवारी सकाळी ९.४५ वाजता संतप्त प्रवाशांनी अडविली. ‘नोकरदारांची गाडी’ म्हणून परिचित असलेली ही रेल्वेगाडी गेले सहा महिने अवेळी धावत असून, कधी बारा डब्यांची, तर कधी आठ व दहा डब्यांची येत असल्याने या गाडीस प्रचंड गर्दी होत आहे.
या गर्दीमुळे प्रवाशाचे प्रचंड हाल होत आहेत. याबाबत वारंवार तक्रार करूनही रेल्वे प्रशासन यावर निर्णय घेत नव्हते. सोमवारी सकाळी याच गाडीमध्ये गांधीनगर ते जयसिंगपूर दरम्यान गर्दीमुळे एका प्रवाशाचा मृत्यू झाल्याने व एक बालिका अत्यवस्थ झाल्याने प्रवासी संतप्त होते.त्यातच मंगळवारी सकाळची सातारा-कोल्हापूर पॅसेंजर गाडीही कमी डब्यांची आल्याने प्रवासी संतप्त झाले. गाडीत प्रचंड गर्दी असल्याने अनेक स्थानकांवर प्रवाशांना गाडीत चढता आले नाही. त्यामुळे प्रवाशांच्यात संतप्त भावना निर्माण झाली. रुकडी येथे तर संतप्त प्रवाशांनी रेल्वे ट्रॅकवरच थांबून ट्रॅक अडविल्यामुळे रेल्वेगाडी स्थानकापासून अर्धा किलोमीटरवर थांबविण्यात आली.
याठिकाणी प्रवाशांना हटविण्याकरिता रेल्वे पोलिसांची कुमक मागविण्यात आली होती. प्रवाशांची समजूत काढण्याकरिता रेल्वेचे अधिकारी गेले असता प्रवाशांनी त्याना धारेवर धरत आक्रमक प्रश्न विचारले. यामुळे त्यांनी तेथून काढता पाय घेतला.रुकडी येथे रेल्वेगाडी पंधरा मिनिटे रेल्वेस्थानकाबाहेर उभी राहताच स्टेशन मॅनेजरांचा गोंधळ उडाला. त्यानी रेल्वे प्रशासनाला या गोष्टीची माहिती देताच गाडी स्थानकाच्या आत घेण्याच्या सूचना मिळाल्या. रेल्वे ट्रॅकवर प्रवासी थांबलेल्या ठिकाणी डेप्युटी स्टेशन मॅनेजर पंकजकुमार चौधरी यांनी जाऊन प्रवाशांची समजूत काढली. त्यांनी दोन दिवसांत या गाडीला जादा डबे जोडण्याची विनंती रेल्वे प्रशासनाला करण्यात येईल, असे आश्वासन दिले.
यानंतर ट्रॅकवरून प्रवासी बाजूला झाले. तत्पूर्वी सकाळी मिरजहून कोल्हापूरकडे जाणाऱ्या या रेल्वेत प्रवाशांना बसण्यासाठी जागा नसल्याने व रेल्वेला फक्त सहाच डबे असल्याने संतप्त झालेल्या प्रवाशांनी जयसिंगपूर येथे थेट रेल्वे इंजिनसमोर उभा राहून निदर्शने सुरू केली. जवळपास पंधरा मिनिटे रेल्वे थांबविण्यात आली होती. त्यानंतर मोठा गोंधळ सुरू झाला. यावेळी रेल्वेच्या अधिकाऱ्यांनी वरिष्ठ प्रशासनाकडे मागणी कळविण्याचे आश्वासन दिल्यानंतर रेल्वे सोडण्यात आली.
  
Today (01:29) Coming soon: Ranchi-Jamshedpur Express (www.dailypioneer.com)
SER/South Eastern
0 Followers
30 views

News Entry# 387339  Blog Entry# 4386353   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
In a much needed relief for passengers of Jamshedpur and Ranch the Indian Railways is likely to start Ranchi-Jamshedpur Express soon and as per information it will hit the tracks in the first week of August.
Addressing a press meet on Monday just two day after joining his office Divisional Rail Manager, Ranchi Neeraj Ambastha said that the South Eastern Railway (SER) will very soon start an express train between Ranchi and Jamshedpur as talks with Railway Board going on it is expected that the board will give its approval very soon and the State Government is also almost ready to give its approval then SER will start the train.
Speaking
...
more...
on his priorities, Ambastha said that his mission to provide safe, secure, punctual and customer friendly railway services to the passengers with emphasis on throughout enhancement.  
“SER will mainly focus on safety of women and children’s facility because they suffer most if there is any accident along with it will also focus on timely and punctual running of trains. The SER will stress on hygienic food and water facility for the passengers and it will also make special arrangement for the cleanliness of railway stations,” said Ambastha.
Ambastha took charge as the new Divisional Rail Manager (DRM) of Ranchi on Saturday. Ambasth is 1990 batch officer of the Indian Railway Traffic Service. He started his career in Indian Railway from Asansol office of then East Railway as traffic manager. Prior to joining the Ranchi Division Ambastha was working as the DRM of Jhansi Division.
In his first interaction with the media Ambastha said that various projects are going on in the State and he will work hard to ensure timely completion of the projects. “With a view to control overcharging slap by Railway vendors on the passengers Indian Railway has issued a circulation that the vendors have to give bill for their sold items. SER will start awareness drive for the passengers to demand bill if they buy any things from the vendors,” he added. On the issue of scarcity of Railway coaches he said that he will ask Railway Board to provide coaches.
He suggested that customers should complain if they get contaminated food in trains. In this case SER will slap fine on the canteen contractor or it can cancel the contract and allot to another contractor.
SER has received Rs 2523.46 crore for the financial year 2019-20 which is 4.46 per cent higher than last year. There is Rs 833.50 crore provided for double line, Rs 658 crore for change of rail tracks and Rs 260 crore for road safety, road over bridge and road under bridge. Rs 175.42 crore provided for passenger facilities and Rs  130.70 crore for traffic facilities.
  
Jul 12 (11:17) Forest dept treads cautiously over railway proposals (www.deccanherald.com)
Commentary/Human Interest
SWR/South Western
0 Followers
1719 views

News Entry# 386543  Blog Entry# 4375826   
  Past Edits
Jul 12 2019 (11:17)
Station Tag: Hubballi Junction (Hubli)/UBL added by Awesome Speed 11139 40~/48335

Jul 12 2019 (11:17)
Station Tag: Mysuru Junction (Mysore)/MYS added by Awesome Speed 11139 40~/48335

Jul 12 2019 (11:17)
Station Tag: Ankola/ANKL added by Awesome Speed 11139 40~/48335

Jul 12 2019 (11:17)
Station Tag: Talguppa/TLGP added by Awesome Speed 11139 40~/48335
The Karnataka Forest department is treading cautiously over the proposals of South Western Railways for more rail lines along the Western Ghats. Considering that the additional lines passing through protected areas could jeopardize the lives of several endangered fauna, the forest department is in anticipation of a detailed action plan by the railways to mitigate damage to wildlife. 
Even though the wildlife death toll along the railway tracks in Karnataka has reduced since 2017, the forest department has refused to compromise and remained stern about the safety of fauna in state forests.
While a total
...
more...
of 32,000 animals were killed along railway tracks in India between 2016 and 2018, Karnataka witnessed about 71 wildlife deaths from 2018 to June 2019. The bulk of the casualties included wild boars, elephants, gaurs and leopards.
Sanjai Mohan, Chief Wildlife Warden, said that Karnataka, compared to other states the extent of rail lines passing through the protected areas is less. “In Karnataka wildlife deaths are due to various other reasons, but in the case of deaths by train, the toll is minimal,” he said.
However, with the railways having requested laying of additional tracks in the Western Ghats, Principal Chief Conservator of Forests (HoFF) Punati Sridhar said that the department is awaiting a report on mitigation measures to be taken up by railways to avoid wildlife deaths.
“We have not yet cleared the proposals of the railways. We want to know what mitigation measures have they taken to safeguard the wildlife,” he said. He added that some of the measures which can be taken are to elevate railway lines where animal crossings traditionally take place.
  
Today (00:42) कांवड़ियों का ट्रेनों पर कब्जा, यात्री परेशान (www.amarujala.com)
0 Followers
107 views

News Entry# 387337  Blog Entry# 4386290   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
शामली। उत्तर रेलवे की ओर से कांवड़ियों के लिए हरिद्वार तक कोई भी स्पेशल ट्रेन का प्रबंध नहीं किया है। जिसका खामियाजा आम यात्रियों को झेलना पड़ रहा है। मंगलवार को दिल्ली से हरिद्वार की ओर से जाने वाली सभी ट्रेनों पर कांवड़ियों का कब्जा रहा। जिस कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। जगह नहीं होने के कारण यात्री मजबूरी में ट्रेनों की छतों पर बैठने को मजबूर हैं।
दिल्ली-शामली, सहारनपुर रेल मार्ग पर हरिद्वार के लिए उदयपुर- अजमेर, बाया दिल्ली-शामली होकर हरिद्वार स्पेेशल एक्सप्रेस ट्रेन सप्ताह में तीन दिन रविवार-मंगलवार और शुक्रवार को सुबह 6.20 बजे शामली से होकर चलती है।
...
more...
दिल्ली से शामली और सहारनपुर होकर हरिद्वार पैसेंजर ट्रेन प्रतिदिन दोपहर दो बजे और दिल्ली-हरिद्वार के लिए कांवड़ स्पेशल ट्रेन रात 11 बजे शामली होकर अप-डाउन हरिद्वार के करती है। कांवड़ यात्रा शुरू हो जाने के बाद दिल्ली से हरिद्वार जाने वाली सभी ट्रेनों मेें पिछले पांच दिनों से लगातार भीड़ बढ़ती जा रही है। हालात यह हो रहे है कि हरिद्वार जानेे वाली ट्रेनों में जगह नहीं होने के कारण यात्री और कांवड़िये छतों पर बैठकर यात्रा कर रहे हैं। उत्तर रेलवे के यातायात निरीक्षक सुनील धीमान के मुताबिक सहारनपुर जिले के टपरी रेलवे के पास इलेक्ट्रिक लाइन होने से खतरे से खाली नहीं है।
शामली रेलवे स्टेशन समेत बडे़ रेलवे स्टेशनों पर सवारियों को लाउडस्पीकर द्वारा ट्रेनों की छतों पर सवारियों को न बैठने के लिए आगाह किया जा रहा है। आरपीएफ के थाना प्रभारी प्रभारी प्रांजल कुमार वोहरा ने बताया कि आरपीएफ का मुख्य फोकस है कि टपरी और मनानी रेलवे स्टेशन पर है। दिल्ली से हरिद्वार जाने वाली सभी ट्रेनों को शामली रेलवे स्टेशन पर रोक कर छतों से कांवड़ियों अन्य सवारियों को उतारा जा रहा है। शामली रेलवे से ट्रेनें गुजरने के बाद ट्रेनों की छतों पर कांवड़ियां सवार हो जाते हैं। मनानी और टपरी रेलवे स्टेशनों पर ट्रेनों की छतों पर चलने वाले कांवड़ियों उतार कर ट्रेनों को गुजारा जा रहा है। मंगलवार सुबह 6.20 बजे शामली रेलवे स्टेशन पर उदयपुर से दिल्ली और शामली होकर हरिद्वार जाने वाली स्पेशल एक्सप्रेस ट्रेन में छतों पर सवार हो रहे कांवड़ियों का उतारा गया है।
जीआरपी और आरपीएफ को अपेक्षित फोर्स नहीं मिला
शामली। कांवड़ यात्रा के दौरान जीआरपी को हैड कांस्टेबल और कांस्टेबल नहीं मिल पाए हैं। आरपीएफ को रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स नहीं मिल पाया है। जीआरपी थाना प्रभारी अभिनव प्रताप सिंह ने बताया कि मांग के मुताबिक फोर्स नहीं मिला है। डेढ़ सेक्शन पीएसी और 25 प्रशिक्षु दरोगा ही मिल पाए हैं। आरपीएफ के थाना प्रभारी निरीक्षक प्रांजल कुमार वोहरा का कहना है कि आरपीएफ ने रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स की मांग की गई थी। इसके बावजूद रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स नहीं मिल पाया है।
शामली आरपीएफ थाने को मिला फोर्स
एएसआई 1
हवलदार 5
कांस्टेबल 15
अन्य 4
  
Yesterday (17:55) हुबली में बन रहा रेलवे म्यूजियम (www.patrika.com)
Metro
SWR/South Western
0 Followers
1714 views

News Entry# 387329  Blog Entry# 4385968   
  Past Edits
Jul 23 2019 (17:55)
Station Tag: Hubballi Junction (Hubli)/UBL added by 12649⭐️ KSK ⭐️12650^~/1203948
हुबली में बन रहा रेलवे म्यूजियम
हुब्बल्ली
रेलवे का इतिहास सहित अनेक रोचक जानकारियों से जनता को रू-ब-रू कराने के लिए हुबली में रेलवे म्यूजियम का निर्माण किया जा रहा है।रेलवे की ओर से मौजूदा आर्थिक वर्ष से ही यह म्यूजियम आम जनता के लिए खोल दिए जाने की उम्मीद है।गदग रोड रेलवे केंद्रीय अस्पताल के सामने रेलवे स्टेशन के लिए सार्वजनिक संपर्क उपलब्ध करने के लिए निर्माणाधीन दूसरे द्वार के दाएं किनारे पर ही लगभग 53 मीटर लंबा, 65 मीटर चौड़े विस्तार की जमीन पर रेलवे म्यूजियम स्थापित हो रहा है।दो आवास
...
more...
गृहों के निवासियों को स्थानांतरित किया म्यूजियम निर्माण की खातिर विभाग के दो आवास गृहों में स्थित निवासियों को स्थानांतरित किया गया है। वहीं पृथक तौर पर दो म्यूजियम निर्मित किए जा रहे हैं। इनमें रेल विभाग से संबंधित ऐतिहासिक इतिहास, इंडन, बोगी, पूर्व में सिग्नल के लिए कौनसी तकनीक का इस्तेमाल किया जाता था। हुब्बल्ली-धारवाड़, मैसूर मराछा रेल में क्या कुछ परिवर्तन हुए। रेल विभाग से संबंधित सभी इतिहास को संग्रहित कर प्रदर्शित करने की रेल विभाग तैयारी कर रहा है।यह मिलेगी जानकारीरेल विभाग के विकास क्रम के बारे में तथा हुब्बल्ली रेलवे स्टेशन का किस वर्ष शिलान्यास हुआ, यह किसने किया, स्टेशन कब से आरम्भ हुआ, रेलवे बोगी निर्माण वर्कशॉप ने कब कार्य आरम्भ किया, इसका क्षेत्र कितना, नैरो गेज में चलने वाले रेलवे इंजन कैसे थे, बोगियां कैसी थीं, नैरो गेज से मीटर गेज कब परिवर्तित हुआ, इसके बाद मीटर गेज से ब्रॉडगेज में कब परिवर्तित हुआ, इस दौरान कौन-कौन से उपकरणों का इस्तेमाल किए जाते थे, दक्षिण पश्चिम रेलवे (दपरे) कब स्थापित हुआ समेत अन्य जानकारियों को म्यूजियम में जनता के लिए उपलब्ध होंगी।रेलवे के इतिहास की दी जाएगी जाकारीफिलहाल दपरे क्षेत्र में ब्रॉडगेज व्यवस्था है। पहले रेल इतिहास में स्थित नैरो गेज, मीटर गेज अब नहीं है। इसके चलते जनता को खासकर बच्चे तथा युवा इनके बारे में जानकारी देने का विभाग ने फैसला लिया है। राज्य के किसी भी मंडल में अब नैरो गेज इंजन नहीं है। इसके लिए दूसरे राज्य से लोको तैयार करने का फैसला लिया है। इसे म्यूजियम परिसर के प्रवेश द्वार के पास प्रदर्शनी के लिए रखा जाएगा। साथ ही परिसर के म्यूजियमों के बीच की जमीन पर एक रेल बोगी को रखकर इसे थेयटर के तौर पर तैयार कर उसमें रेल विभाग से संबंधित जानकारी वाले फिल्म प्रदर्शित किया जाएगा। एक और बोगी को सामान्य रेस्टोरेंट के तौर पर तैयार करने की योजना है।क्या-क्या आया बदलावरेलवे के हुब्बल्ली, मैसूर, बेंगलूरु मंडल में पहले कौनसी व्यवस्था थी। रेलवे स्टेशन कैसे थे। अब क्या परिवर्तन हुआ है इस बारे में पुस्तक, रिपोर्ट, फोटो, फिल्म प्रदर्शनी समेत रेलवे से संबंधित ऐतिहासिक जानकारी म्यूजियम में रहेगी। रेल विभाग के अधिकारियों का मानना है कि यह बच्चों तथा युवाओं समेत हर एक केलिए रेल के बीते वैभव के बारे में जानकारी उपलब्ध होगा।इनका कहना हैरेलवे के गौरवशाली अतीत को जनता को बताने की खातिर विभाग की ओर से गदग रोड के केंद्रीय रेलवे अस्पताल के सामने रेलवे म्यूजियम स्थापित करने की योजना है। इसका कार्य चल रहा है। बाहरी राज्य से नैरो गेज इंजन भी मंगवाने की तैयारी चल रही है। मौजूदा रेलवे वित्त वर्ष में म्यूजियम का कार्य पूरा होगा। -ई. विजया, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी, दपरे
Page#    365345 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy