Spotting
 Timeline
 Travel Tip
 Trip
 Race
 Social
 Greeting
 Poll
 Img
 PNR
 Pic
 Blog
 News
 Conf TL
 RF Club
 Convention
 Monitor
 Admin
 Followed
 Rating
 HJ
 Vote
 Pred
 @
 FM Alert
 FM Approval
 Pvt
News Super Search
 ↓ 
×
Member:
Posting Date From:
Posting Date To:
Category:
Zone:
Language:
IR Press Release:

Search
  Go  
Full Site Search
  Full Site Search  
 
Wed Nov 21 03:54:29 IST
Home
Trains
ΣChains
Atlas
PNR
Forum
Gallery
News
FAQ
Trips
Login
Feedback
Advanced Search
Page#    347944 news entries  next>>
  
Today (01:40) 3,000 किलोमीटर लंबी दीवार बनाने तैयारी में है रेलवे, अमृतसर हादसे से लिया सबक (navbharattimes.indiatimes.com)
0 Followers
275 views

News Entry# 369296  Blog Entry# 4026361   
  Past Edits
Nov 21 2018 (01:40)
Station Tag: Munger (Monghyr)/MGR added by Jeetendra Kumar~/1461395

Nov 21 2018 (01:40)
Station Tag: Bhagalpur Junction/BGP added by Jeetendra Kumar~/1461395

Nov 21 2018 (01:40)
Station Tag: Jamalpur Junction/JMP added by Jeetendra Kumar~/1461395

Nov 21 2018 (01:40)
Station Tag: Amritsar Junction/ASR added by Jeetendra Kumar~/1461395
नई दिल्लीअमृतसर में रेल की पटरी पर हुए भीषण ट्रेन हादसे के करीब एक महीने बाद रेलवे ने 3,000 किलोमीटर लंबी दीवार खड़ी करने की योजना बनाई है। रेलवे ने शहरी इलाकों में लोगों को पटरियों से दूर रखने के लिए दीवारें खड़ी करने का प्लान तैयार किया है। अकसर रेल पटरियों पर पैदल यात्रियों के आने की वजह से रेल हादसा हो जाते हैं। ऐसे में भारतीय रेलवे ने यह स्कीम बनाई है।इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक अमृतसर में दशहरे पर हुए हादसे के कुछ दिनों बाद ही रेल मंत्री पीयूष गोयल ने यह फैसला लिया है। इन दीवारों की ऊंचाई 2.7 मीटर ऊंची रहेगी। इसे सीमेंट और कंक्रीट से बनाया जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक ये दीवारें शहरी एवं गैर-शहरी दोनों तरह के इलाकों में बनाई जाएंगी। इस पूरी परियोजना पर 2,500 करोड़ रुपये की लागत आने की संभावना है।इन दीवारों के जरिए पटरियों के पास डंपिंग को रोका...
more...
जा सकेगा। इसके अलावा बाधाएं दूर होने के चलते आबादी वाले इलाकों से भी ट्रेन तेज गति से गुजर सकेंगी। इससे यात्रा के सफर को कम करने में मदद मिलेगी। पटरी पर खड़े होकर दशहरा मेला देख रहे लोग अमृतसर में ट्रेन हादसे में मारे गए थे। इस हादसे करीब 60 लोगों की मौत हो गई थी, जिसके बाद से ही यह सवाल भी उठने लगा था कि पटरियों के आसपास दीवार खड़ी करने की जरूरत है या नहीं।

  
277 views
Today (01:41)
Jeetendra Kumar~   1271 blog posts
Re# 4026361-1            Tags   Past Edits
munger /bhagalpur region also required safety

  
138 views
Today (02:49)
® राहुल जैन ™ ☺ 🚅🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚃🚅*^~   14288 blog posts   14939 correct pred (63% accurate)
Re# 4026361-2            Tags   Past Edits
sabse pahle to saare bade shehro ki rail line k dono taraf wall banni chahiye aur jald se jald
  
Yesterday (18:08) टाटानगर स्टेशन पर लहराएगा सौ फुट ऊंचा तिरंगा (m.livehindustan.com)
IR Affairs
SER/South Eastern
0 Followers
1406 views

News Entry# 369248  Blog Entry# 4025159   
  Past Edits
Nov 20 2018 (18:08)
Station Tag: Tatanagar Junction/TATA added by Adittyaa Sharma^~/1421836
Stations:  Tatanagar Junction/TATA  
टाटानगर स्टेशन समेत दक्षिण-पूर्व जोन के कई रेलवे स्टेशनों पर सौ फुट ऊंचा तिरंगा लहराएगा। यात्रियों एवं रेलकर्मियों में देशप्रेम की भावना जगाने के तहत यह योजना बनी है।रेलवे बोर्ड से 22 अक्तूबर को यह आदेश जारी हुआ था। इसमें देश के 75 ए वन स्टेशनों पर सौ फुट ऊंचा तिरंगा लहराना है। रेलमंत्री ने ट्विटर पर बोर्ड की योजना पर सहमति जताई है। इससे दक्षिण-पूर्व जोन के अधिकारी सतर्क हैं। सिर्फ तिरंगा लहराने वाले स्टेशनों के नाम की सूची जारी होने का इंतजार है। नाम स्पष्ट होने पर गार्डेनरीच, टाटानगर एवं खड़गपुर स्टेशन पर सौ फुट ऊंचा तिरंगा लहराने की तैयारी शुरू हो जाएगी।इधर, दक्षिण-पूर्व जोन के सीपीआरओ संजय घोष ने बताया कि टाटानगर व खड़गपुर भी ए-वन स्टेशनों में शामिल हैं। दिसंबर का लक्ष्य : ए-वन स्टेशनों पर दिसंबर तक तिरंगा लगाने का आदेश रेलवे बोर्ड से जारी हुआ है। चक्रधरपुर मंडल की देखरेख में टाटानगर स्टेशन पर तिरंगा...
more...
लहरेगा। ताकि, रेलकर्मी एक बार राष्ट्रध्वज को प्रणाम कर ड्यूटी शुरू करें। बोर्ड का मानना है कि तिरंगा देखने मात्र से रेलकर्मी सुरक्षा एवं संरक्षा के प्रति सतर्क रहेंगे। इंजन पर लगा तिरंगा : रेलवे ने सभी इंजन के आगे तिरंगा का स्टीकर अगस्त 2016 में रेलवे बोर्ड के आदेश पर लगाया था। चक्रधरपुर मंडल के टाटानगर इलेक्ट्रिक लोको शेड एवं बंडामुंडा डीजल शेड के ढाई सौ से ज्यादा इंजनों पर तिरंगा लगा था। जबकि, रेलवे ने स्वच्छ भारत अभियान के तहत बोगियों पर राष्ट्रध्वज अंकित कराया है।
  
Yesterday (23:05) अस्सी की स्पीड से दौड़ी टी-18 (www.livehindustan.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
260 views

News Entry# 369267  Blog Entry# 4026185   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
देश की पहली सेमी हाईस्पीड ट्रेन (टी-18) मंगलवार को बलियाखेड़ी तक दौड़ी। स्पीड ट्रायल के पहले दिन ट्रेन अस्सी किमी की अधिकतम गति से चलाई गई। वापसी में देर शाम ट्रेन को नजीबाबाद में रोक दिया गया। अब अगले चार दिन नजीबाबाद से ही ट्रायल के लिए रवाना की जाएगी। बुधवार को ट्रेन को नब्बे किमी की रफ्तार से चलाया जाएगा।
ट्रेन पहले दिन ट्रेन मुरादाबाद से बलियाखेड़ी के बीच दौड़ाई गई। शाम को सवा पांच बजे ट्रेन लौटी। सुबह ट्रेन यहां से पौने दस बजे रवाना की गई थी। केवल बलियाखेड़ी जाते समय ट्रेन की स्पीड देखी गई।
आरडीएसओ
...
more...
की टीम ने सोलह कोच के सभी सेंसर ने स्पीड सहित अन्य जरूरी बिंदुओं पर डेटा जुटाया। सूत्रों का कहना है कि ट्रेन की स्पीड, पिकअप, कंपन और सफर के दौरान यात्री के सुकून की पड़ताल के लिए सेंसर लगाए गए हैं। टीम ने करीब एक लाख प्वाइंट पर डेटा जुटाया है। इसके बाद टीम ट्रायल की रिपोर्ट तैयार करेगी।
मुख्य बातें
दस से अस्सी किमी प्रति घंटे पर चली ट्रेन
सुबह पौने दस बजे मुरादाबाद से रवाना हुई
देर रात नजीबाबाद यार्ड में खड़ी कर दी गई
ट्रायल में चार दिन नजीबाबाद से चलेगी ट्रेन
पहले मुरादाबाद आएगी, लक्सर तक चलेगीस्पीड ट्रायल में पहले दिन ट्रेन अस्सी की अधिकतम गति से चली। जिसका डेटा जुटाया गया है। देर रात इसका अध्ययन होगा और उसके बाद अगले दिन की योजना बनेगी। पहले दिन में ट्रेन सही चली है। अब हर दिन धीरे धीरे अधिक स्पीड पर चलेगी। मंडल में 115 की अधिकतम स्पीड से ट्रेन का ट्रायल होना है।
प्रशांत कुमार, डायरेक्टर टेस्टिंग, आरडीएसओ
ट्रेन के ट्रायल के लिए सेक्शन की लंबाई कम की गई है। अब ट्रेन नजीबाबाद में खड़ी होगी। वहां से चलकर दिन में मुरादाबाद आएगी। इसके बाद यहां से लक्सर के बीच चलेगी। रात में नजीबाबाद में रोकी जाएगी। अब ट्रेन सहारनपुर तक नहीं जाएगी।
अंबर प्रताप सिंह, सीनियर डीओएम, मुरादाबाद
  
Today (00:48) டிச., 15 முதல் இயங்க போகிறது இன்ஜினில்லா ரயில் (www.dinamalar.com)
New Facilities/Technology
0 Followers
205 views

News Entry# 369295  Blog Entry# 4026329   
  Past Edits
This is a new feature showing past edits to this News Post.
புதுடில்லி: 'நாட்டில், முதன்முறையாக, இன்ஜின் இல்லாமல் இயங்கக் கூடிய, 'ரயில் 18' என்ற ரயில், 160 கி.மீ., வேகத்தில், டிச., 15 முதல், செயல்பாட்டுக்கு வரும்' என, ரயில்வே வாரியம் தெரிவித்துள்ளது. தற்போது, இந்த ரயிலின் சோதனை ஓட்டம், உத்தர பிரதேச மாநிலம், மொரதாபாதில் நடக்கிறது.
  
Yesterday (23:36) रेलवे की तिमाही रिपोर्ट में करनाल-यमुनागर लाइन प्रोजेक्ट गायब (www.jagran.com)
Commentary/Human Interest
NR/Northern
0 Followers
394 views

News Entry# 369283  Blog Entry# 4026259   
  Past Edits
Nov 20 2018 (23:36)
Station Tag: Meerut City Junction/MTC added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Nov 20 2018 (23:36)
Station Tag: Kaithal/KLE added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Nov 20 2018 (23:36)
Station Tag: Yamunanagar-Jagadhri/YJUD added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739

Nov 20 2018 (23:36)
Station Tag: Karnal/KUN added by Anupam Enosh Sarkar*^~/401739
रेलवे विभाग की सर्वे रिपोर्ट में कैथल-मेरठ रेलवे लाइन का प्रोजेक्ट भी लापता
सीएम ने 13 अगस्त 2015 को ट्वीट कर करनाल से यमुनानगर रेललाइन जोड़ने के लिए बुनियादी स्तर पर प्रयास शुरू करने का किया था दावा
जागरण संवाददाता, करनाल रेल विभाग की तिमाही रिपोर्ट में करनाल-यमुनानगर और कैथल से मेरठ रेलवे लाइन प्रोजेक्ट गायब हैं। हालांकि वर्ष 2016 से लेकर जनवरी 2018 में इन दोनों प्रोजेक्टों को सिरे चढ़ाने के लिए सर्वे शुरू हो गया था। इन दोनों रेललाइन के लिए यात्रियों में एक खुशी का माहौल
...
more...
भी था कि इस प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाया जा रहा है। सबसे अहम बात तो यह है कि सीएम मनोहर लाल ने इन दोनों प्रोजेक्ट को सिरे चढ़ाने की घोषणा भी की थी। 13 अगस्त 2015 को मुख्यमंत्री ने ट्वीट से घोषणा की थी कि करनाल से यमुनानगर रेललाइन को जोड़ने के लिए बुनियादी स्तर पर प्रयास शुरू किए जा चुके हैं। इस लाइन के बनने से यातायात की व्यवस्था और बेहतर होगी। सीएम का यह ट्वीट उस समय आया था जब रेलविभाग की ओर से इन लाइनों पर सर्वे शुरू किया था। यह सर्वे लगभग दो साल तक हुआ, लेकिन इसके बाद जब तिमाही रिपोर्ट आई तो उनमें इन दोनों प्रोजेक्ट को गायब कर दिया गया। तिमाही रिपोर्ट देखकर यात्रियों में रोष भी है कि उनकी जो मांग थी, वह अधूरी होती नजर आ रही है।
करनाल-यमुनानगर रेललाइन से ये होगा फायदा
ये रेललाइन करनाल से इंद्री, लाडवा, रादौर होते हुए यमुनानगर तक पहुंचेगी। इस लाइन के तैयार होने से यमुनानगर भी सीधा दिल्ली रेल रूट से जुड़ जाएगा। हरियाणा रेल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन करनाल-यमुनानगर रेललाइन के काम को अमलीजामा पहनाया जाता है। करनाल-यमुनानगर रेल लाइन की घोषणा साल 1998 में संसद में पेश किए रेल बजट में हुई थी। तब से अब तक कई बजट आए, लेकिन इस लाइन का जिक्र तक नहीं हुआ। 2015 के बजट में इसके सर्वे की घोषणा की गई। सर्वे के लिए कुछ बजट भी जारी किया था। आधा हो जाएगा ट्रांसपोर्टेशन खर्च करनाल से यमुनानगर तक ट्रांसपोर्टेशन रेल से हो सकेगी। अब तक ट्रकों से ट्रांसपोर्टेशन होता है। रेलवे लाइन बिछ जाती है तो ट्रांसपोर्टेशन का खर्च आधा हो जाएगा। उद्योगपतियों की मानें तो करनाल-यमुनानगर लाइन बनने पर यमुनानगर सीधे दिल्ली रेल लाइन से जुड़ जाएगा। इससे व्यापारियों को बड़ा लाभ होगा। वहीं, प्लाईवुड के लिए भी कच्चा माल ट्रकों में लेकर आना पड़ता है। करनाल में बनने वाले एग्रीकल्चर इंप्लीमेंट आसानी से यमुनानगर पहुंचाए जा सकते हैं। इससे उनका ट्रांसपोर्टेशन का खर्च आधा हो जाएगा।

  
266 views
Today (00:30)
KarnalJunction~   1392 blog posts
Re# 4026259-1            Tags   Past Edits
Just like old govt , this govt is also making fool of Karnal Residents.
Page#    347944 news entries  next>>

Scroll to Top
Scroll to Bottom
Go to Mobile site
Important Note: This website NEVER solicits for Money or Donations. Please beware of anyone requesting/demanding money on behalf of IRI. Thanks.
Disclaimer: This website has NO affiliation with the Government-run site of Indian Railways. This site does NOT claim 100% accuracy of fast-changing Rail Information. YOU are responsible for independently confirming the validity of information through other sources.
India Rail Info Privacy Policy